कौमार्य भंग

इस कड़ी में सविता भाभी का नौकर मनोज अपने पहले चुदाई के तजुर्बे के बारे में भाभी को बताता है। मनोज सविता भाभी को चोदता जाता है और अपनी पहली चुदाई की कहानी सुनाता जाता है। वो बताता है उसके गाँव की एक लड़की अक्सर नदी पर नहाते हुए मनोज को अपने रूप यौवन का दर्शन कराती थी। मनोज उसके सौंदर्य का दीवाना हो चूका था। आग दोनों तरफ बराबर लगी थी और एक दिन अकेले में मौका मिलने पर उस लड़की ने बताया कि उसकी सगाई हो चुकी है। पर वो मनोज जैसे गबरु जवान के साथ जिंदगी का आनंद उठाना चाहती है।

इस कड़ी में सविता भाभी का नौकर मनोज अपने पहले चुदाई के तजुर्बे के बारे में भाभी को बताता है। मनोज सविता भाभी को चोदता जाता है और अपनी पहली चुदाई की कहानी सुनाता जाता है। वो बताता है उसके गाँव की एक लड़की अक्सर नदी पर नहाते हुए मनोज को अपने रूप यौवन का दर्शन कराती थी। मनोज उसके सौंदर्य का दीवाना हो चूका था। आग दोनों तरफ बराबर लगी थी और एक दिन अकेले में मौका मिलने पर उस लड़की ने बताया कि उसकी सगाई हो चुकी है। पर वो मनोज जैसे गबरु जवान के साथ जिंदगी का आनंद उठाना चाहती है।