दोगुना मज़ा

अगली सुबह अशोक के हैरानी भरे ककोल्ड इच्छा का अनुभव होने के बाद, हमारी भाभी को कड़ी 94 में अभी तक ये नहीं पता चला की इतने लम्बे समय के बाद उनकी पहली चुदाई की रात का क्या करना है. लेकिन उसे कुछ सोचने का वक्त ही नहीं मिलता जब कुछ बिन बुलाये मेहमान आने वाली दिवाली के लिए घर आ जाते है. और गड़बड़ तब बढ़ जाती है जब एक क्रिकेट बॉल खिड़की तोड़ते हुए अंदर आ जाती है, कुछ और जाने पहचाने लोगो के कारण सविता के जीवन में और हलचल मच जाती है.

अगली सुबह अशोक के हैरानी भरे ककोल्ड इच्छा का अनुभव होने के बाद, हमारी भाभी को कड़ी 94 में अभी तक ये नहीं पता चला की इतने लम्बे समय के बाद उनकी पहली चुदाई की रात का क्या करना है. लेकिन उसे कुछ सोचने का वक्त ही नहीं मिलता जब कुछ बिन बुलाये मेहमान आने वाली दिवाली के लिए घर आ जाते है. और गड़बड़ तब बढ़ जाती है जब एक क्रिकेट बॉल खिड़की तोड़ते हुए अंदर आ जाती है, कुछ और जाने पहचाने लोगो के कारण सविता के जीवन में और हलचल मच जाती है.